Friday, November 24, 2006

वक़्त है हर शेह को सियासत सिखा रहा है

वक़्त है हर शेह को सियासत सिखा रहा है,
डरता था जो आग से वोह बम बना रहा है.
छिप जाता था जो आँचल मे देख के रंग- ए- सुर्ख़,
देखो लहू के समंदर मे वो गोते लगा रहा है.
इस माहौल को किया है मैने ही ग़म- गीन,
वोह देखो मेरा चाँद समंदर मे जा रहा है.
चले जाते थे हम पार निशानों के उड़ उड़ कर,
मुश्किल से रेंगते हैं वोह सेहर याद आ रहा है.
फैलाए थे मैने पाँव चादर को नाप कर,
अब क्या करूँ वही पैर जब चादर चबा रहा है.....
वक़्त है हैर शेह को .....
.......................................सुप्रेम त्रिवेदी "विद्रोही "
Post a Comment