Wednesday, January 5, 2011

ज़हर की दुकान

ज़हर की दुकान पे जो भीड़ लगी देखी,
सोचा मैंने कौन हैं ये लोग अविवेकी,

अरे! एक, न ही दो, न ही तीन, न ही चार,
भीड़ थी कि भीड़ थी कि कई सौ हज़ार,

हर आदमी था खुश, करता था आगे पुश,
देख के इतना रश, मैं तो खा गया था गश.

मैंने पूछा "क्या सामूहिक आत्महत्या का है अरमान?"
या फिर देख के आये हो तुम लोग "तीस मार खान"?

वो बोले नहीं, आलू, प्याज, नमक के बाद अब ज़हर की है बारी.
क्योंकि मरने को मांगेगी जनता सारी.
कहीं न शुरू हो जाये इसकी भी कालाबाजारी,
इसलिए करते हैं एडवांस में खरीदारी.
Post a Comment